मस्त मगन अपने सोच के संग

ऊंची उड़ान अपने सवालों के संग
भरने चली अपने रंग

“मेरी अपनी जगह” by Jasmine

हमने lockdown में आगाज़ में Online Learning Sessions लेना शुरू किया जिसमे हमने अलग अलग चीज़ों पर बात करते हैं और कई सवाल पूछते हैं।

हम सीख रहे हैं की कैसे documention करते हैं, Zoom को कैसे use करत हैं, screen कैसे share करते हैं , वगेरह। हर एक चीज़ जो session में होती है, उसे अपनी notebook में लिखना ताकि हम बाद में अपने नोट्स भी पढ़ सकें। हम पहले ये सही से नहीं करते थे , पर अब धीरे धीरे हम डायरी मेनटेन करना सीख रहे हैं। सेशन के दोरान क्या-क्या feel होता है, और सेशन के बाद की क्या feelings हैं — इसको observe करना, समझना; किसी भी topic पर सिर्फ ऊपर ऊपर से बात न करके उसको deeply समझना। ये सब हम सीख रहे हैं।

मेरे लिए जो सबसे ज्यादा एक amazing चीज़ है, जो मैंने पहले कभी imagine भी नहीं किया था, वो है ये शब्द ‘space’: इस एक शब्द को लेके इतने सारे सवाल हो सकते हैं!

मेरे लिए कोई भी space अपना कब बनता है ?
मेरे लिए space के क्या-क्या meanings हैं?
दूसरो के लिए space कैसे create करते हैं?
कोई हमारे space में आ रहा है तो हम खुदको केसे ready करते हैं?
हम ऐसा क्या करते हैं या कर सकते हैं की हम एक space को अपना बनाएं? कौनसी चीज़ किसी space को तुम्हे अपना बनाने में मदद करती है?
तुम्हे कैसी space पसंद है?

हम सबने इन सवालों के अलग अलग जवाब दिये, और कुछ एक जैसे भी -
“जहाँ मुझे कोई किसी भी चीज़ को लेके judge न करे”; “जहाँ मेरी बातों को सुनें”; “जहाँ share करने की space हो”, etc।

मुझे ये बहुत amazing लगा क्यूंकि मैंने कभी ये सोचा ही नहीं था की space को लेके इतनी सारी बातें हो सकती हैं।

मुझे उम्मीद है की ऐसे ही कई सवाल हम अपने Learning Sessions में पूछते रहेंगे, और हमारा खुद को, और अपने काम को, और भी गहराई से जानने- समझने का सफ़र बना रहेगा।

Jasmine started doing theatre with Aagaaz in 2012. She sees it as a medium that allows her to recognize her own talent and potential. She is quite interested in working with younger children, and is one of the four educators/facilitators-in-the-making, working with children in the Nizamuddin Basti. A student of BA(Hons.) Political Science, Jasmine also likes to spend her time sketching, drawing and cooking.

An arts based organisation dedicated to creating inclusive learning spaces that nurture curiosity and critical thought while creating safe spaces for dialogue.